First time here? Checkout the FAQ!
x
We use cookies to enhance your experience. By continuing to visit this site you agree to our use of cookies. More info
in Real life by
ओ.सी.डी. यानी ऑब्सेसिव कम्पलसिव डिसऑर्डर। यह एक ऐसा मनोरोग है, जिसमें व्यक्ति को व्यर्थ की चिंता सताती रहती है।

ऐसे में उसके मस्तिष्क में कोई एक विचार, छवि या बात बार-बार आती है और वह ये जानता है कि यह विचार गलत है फिर भी इसे आने  से रोक नहीं पाता और इससे प्रभावित होकर कुछ ऐसा व्यवहार करता है जो कष्टप्रद होता है जिससे उसका दैनिक जीवन भी बाधित हो सकता है।

इसमें रोगी के मस्तिष्क में कई तरह के विचार आते हैं, जैसे- गंदगी का भय, गंभीर बीमारी होने का डर, नुकसान के डर के बारे में असंगत शंकाएं आदि। इसके अलावा     बार-बार हाथ धोना, एक ही बात को पढऩा, दरवाजे के भीतर  आना-जाना, दरवाजे, ताले, स्विच और गैस के बर्नर की बार-बार जांच करना कि ठीक से बंद कर दिए हैं या नहीं आदि मुख्यत: इसके लक्षण होते हैं। इस रोग में मन में कई बार अपशब्द, दुर्विचार, देवी-देवताओं के प्रति अपमानजनक बातें भी आती हैं।


शोध बताते हैं कि इसके लिए आनुवांशिकता, व्यक्ति का व्यक्तित्त्व, मस्तिष्क में सिरोटोनिन नामक न्यूरो ट्रांसमीटर की कमी, संक्रमण, तनाव और बाल्यावस्था में होने वाले विकास में अवरोध आदि जिम्मेदार होते हैं।

1 Comments

by
Mai nhi krta check, mai to baar baar chabhi check krta hu khi gum to nhi ho gyi.
     
...